शिक्षिका उर्मिला सिंह पुंडीर के प्रयासों से प्राइमरी के बच्चों में बढ़ रहा वैज्ञानिक सोच का भाव

ब्यूरो रिपोर्ट
रुड़की/समाचार
प्राथमिक स्तर के स्कूली बच्चे भी अंग्रेजी में बात कर सकते हैं। उनकी आंखों में भी पलने लगे हैं सपने चांद-तारे छूने के, वैज्ञानिक बनकर विज्ञान की दुनिया के राज जानने की जिज्ञासा उनमें भी है और लैपटॉप, कम्प्यूटर,प्रोजैक्टर के बारे में वे बड़े आत्मविश्वास सेे बताने लगे हैं कि ‘इट इज एन इलेक्ट्रॉनिक डिवाईस’। सुखद बदलाव की ये बयार बह रही है सरकारी प्राथमिक स्कूलों में, जहां कभी बच्चे सिर्फ मीड डे मील लेने के बहाने ही जाया करते थे या फिर टाट-पट्टी पर कभी-कभी इक्का दुक्का बच्चा नजर आ जाता था। इन बदलावों के सूत्रधार हैं इन स्कूलों के शिक्षक, जो बच्चों में रचनात्मक सोच पैदा करने का न केवल आत्मविश्वास रखते हैं, बल्कि उन्होंने ऐसा कर दिखाया है।
श्रीमती उर्मिला सिंह पुंडीर भी रूडकी ब्लॉक की ऐसी ही कर्मठ, जुझारू, नवाचारी शिक्षिका है जिनको 2017 के शैलेश मटियानी राज्य पुरस्कार हेतु चयनित किया गया हैं। इस प्रतिष्ठित पुरस्कार दिए जाने से शिक्षक वर्ग में उत्साह की लहर है और यह पुरस्कार अन्य शिक्षकों के लिए भी प्रेरणा का स्त्रोत बनेगा। श्रीमती उर्मिला सिंह पुंडीर के अब तक के कार्यकाल में उनके व्यवहार और उनकी कार्यशैली से छात्र, शिक्षक और अभिभावक हमेशा खुश रहे हैं। आज इस सरकारी स्कूल के बच्चे ज्यादातर सरकारी सांस्कृतिक आयोजनों में बेहतर प्रस्तुति देते हैं वही निष्प्रयोज्य सामग्री से ढेरों चीजें बनाना जानते हैं, यह उनके कौशल विकास का हिस्सा बन चुका है। 11 दिसंबर 1999 से रुड़की ब्लॉक के राजकीय प्राथमिक विद्यालय रसूलपुर में सहायक अध्यापक पद पर तैनात हुई श्रीमती उर्मिला सिंह पुंडीर फिलवक्त जूनियर हाई स्कूल माधोपुर हजरतपुर मे विगत 11 वर्षो से सेवाए प्रदान कर रही है। संसाधन विकास मे योगदान की बात हो या फिर बालिका शिक्षा, नवाचारी शिक्षण हर स्तर पर उर्मिला पुंडीर बेहतर कार्य कर रही है। इस उपलब्धि पर शिक्षक संजय वत्स, ललित गुप्ता, राजीव कुमार शर्मा, पुष्पांजलि अग्रवाल, सुमन चौहान, कमला राणा, जोगेन्द्र कुमार, आलोक, नितिन, विनिता स्टैनले, बबीता शर्मा आदि ने बधाई एवं शुभकामनाएं दी है।

Admin

Read Previous

रुड़की:बंगाल की सीएम के खिलाफ किया प्रदर्शन, कैंडल मार्च निकालकर मृतकों को दी श्रद्धांजलि।

Read Next

रुड़की:नगर निगम की लापरवाही जनता पर पड़ रही भारी,कृष्णानगर में अभिमन्यु ने कराया डेंगू की दवा का छिड़काव।